देशभक्तों के प्रति : राष्ट्र का निर्माण कैसे होता है? - 1



'राष्ट्र' शब्द की सटीक व्याख्या के संबंध में कई अलग-अलग विचार हैं। कुछ का मत है कि एक विशेष राज्य के निवासी एक राष्ट्र का निर्माण करते हैं। 'राज्य' और 'देश' शब्दों को पर्यायवाची मान लेने पर भी, 'राष्ट्र' पर विवाद समाप्त नहीं होता है। कुछ लोगों का मत है कि किसी राष्ट्र की संरचना भाषा पर निर्भर करती है। अन्य लोगों की राय है कि किसी राष्ट्र की नींव निम्नलिखित में से एक या एक से अधिक कारकों पर निर्भर करती है: समान व्यवहार और रीति-रिवाज, समान जीवन शैली, समान परंपराएँ, समान भाषा, नस्लीय समानता, रिलिजियस या धार्मिक समानता, आदि। लेकिन व्यावहारिक अनुभव बताता है कि ये कारक विशेष रूप से महत्वपूर्ण नहीं हैं।

 राष्ट्र का निर्माण कैसे होता है?

भारतीय, पाकिस्तानी और बर्मी कभी एक ही राजनीतिक इकाई अर्थात भारतवर्ष की स्वदेशी आबादी थे, लेकिन वे एक राष्ट्र का गठन करने में विफल रहे।

एक राष्ट्र के निर्माण में भाषाई समानता  एक आवश्यक कारक नहीं है। अगर ऐसा होता, तो अमेरिका के अंग्रेजी बोलने वाले लोग ब्रिटिश साम्राज्य के बाहर फ्रांसीसी और स्पेनिश बोलने वाले लोगों के सहयोग से एक अलग अमेरिकी राष्ट्र नहीं बनाते। यदि राष्ट्र निर्माण का एकमात्र आधार भाषा होती, तो स्विट्जरलैंड तीन या चार भागों में विभाजित हो जाता: जर्मन भाषी लोग अपने क्षेत्र को जर्मनी में विलय करना चाहते, इसे स्विट्जरलैंड से अलग करने की कोशिश करते, और जर्मन राष्ट्र के सदस्य के रूप में खुद को पेश करने में गर्व महसूस करते। इसी तरह, फ्रांसीसी और इतालवी भाषी लोग अपने क्षेत्रों को फ्रांस और इटली में मिलाना चाहते, परन्तु ऐसा नहीं हुआ। स्विस चार आधिकारिक भाषाओं - जर्मन, फ्रेंच, इतालवी और रोमन - के साथ एक राष्ट्र है। इसी तरह, बेल्जियम के फ्रांसीसी भाषी लोग खुद को एक बेल्जियम राष्ट्र के रूप में देखना पसंद करते हैं, न कि एक फ्रांसीसी राष्ट्र के रूप में।

एक राष्ट्र के निर्माण में भाषाई समानता  एक आवश्यक कारक नहीं है। 

हाल ही में [यानी स्वतंत्रता प्राप्ति के समय] पश्चिम बंगाल के लोगों ने भारतीय नागरिकों के रूप में भारत में रहने की उत्सुकता व्यक्त की, और पूर्वी बंगाल के लोगों ने पाकिस्तान का समर्थन किया और खुद को पाकिस्तानी घोषित किया, हालाँकि दोनों एक ही भाषा बंगाली बोलते थे। उन्होंने बंगाली भाषा के आधार पर एक स्वतंत्र बंगालीस्तान की मांग नहीं की; नहीं, वे अपना परिचय बंगाली नागरिक के रूप में देना भी पसंद नहीं करते थे। बंगालीस्तान (यूनाइटेड सोशलिस्ट बंगाल) के सुहरवर्दी-शरत बोस फॉर्मूले को आम लोगों ने कोई महत्व नहीं दिया। (1)

 स्पेनिश और पुर्तगाली-भाषी लोगों के रीति-रिवाजों में बहुत कम अंतर है। भाषा की नज़र से भी स्पेनिश और पुर्तगाली भाषाओं में बहुत कम अंतर है। पश्चिमी यूरोप के लगभग सभी देशों के रीति-रिवाज व्यावहारिक रूप से समान हैं; फिर भी वे एक राष्ट्र नहीं हैं। अतीत में, अपने-अपने राष्ट्रों की प्रतिष्ठा बचाने के लिए, उन्होंने आपस में कई युद्ध लड़े। दूसरी ओर, वेल्श-भाषी लोग खुद को ब्रिटिश कहने में गर्व महसूस करते हैं, हालाँकि उनकी भाषा, तौर-तरीके और रीति-रिवाज [अन्य ब्रिटिशवासियों से] काफी अलग हैं। पूरे यूरोप में रहने का तरीका लगभग समान है, और (भारत और पाकिस्तान सहित) पूरे दक्षिण एशिया में हम रहन-सहन की समानता पाते हैं, लेकिन कोई भी इसके आधार पर एक सुगठित राष्ट्र नहीं बना सका है।

यदि राष्ट्र के निर्माण का एकमात्र आधार धर्म होता, तो दुनिया में छह या सात से अधिक राष्ट्र नहीं होते। 

बंगाल के निवासियों की परंपरा एक समान है; पंजाब के लोगों के साथ भी ऐसा ही है। अरब के यहूदियों और मुसलमानों के बीच परंपरा में कोई अंतर नहीं है। फिर भी, न तो बंगाली, न पंजाबी, न ही यहूदी और अरब के मुसलमान मिलकर एक राष्ट्र बना सके। बल्कि धर्म के आधार पर उनके बीच बहुत खून बहाया गया है।

आइबेरिआ के निवासियों के बीच, और स्कैंडिनेवियाई लोगों के बीच कोई नस्लीय मतभेद नहीं हैं, फिर भी वे विभिन्न राष्ट्रों में विभाजित हैं। खून का बंधन उन्हें एक नहीं कर सका। इसलिए, जाति या रक्त संबंधों के आधार पर राष्ट्र की स्थापना के प्रयास हमेशा प्रभावी नहीं होंगे।

यदि राष्ट्र के निर्माण का एकमात्र आधार धर्म होता, तो दुनिया में छह या सात से अधिक राष्ट्र नहीं होते। कुल मिलाकर यूरोप का अधिकांश भाग कैथोलिक और प्रोटेस्टेंट दो राष्ट्रों में विभाजित हो गया होता, लेकिन ऐसा नहीं हुआ है। 



तो राष्ट्र कैसे बनता है? वास्तव में, देश, भाषा, धर्म आदि जैसे एक या एक से अधिक कारकों के आधार पर प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से बनाई गई एक तरह की भावना राष्ट्र के निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। ये कारक स्वयं काफी महत्वहीन हैं। यह भावना (सेंटीमेंट) ही है जो एक राष्ट्र का निर्माण करती है, ना कि और कुछ।

देखते हैं कि क्या भारत में कभी ऐसी भावना थी; यानी भारत में कभी कोई ऐसी चीज थी या नहीं जिसे एक राष्ट्र कहा जा सके।  

(बाकी अगले भाग में )


 - श्री प्रभात रंजन सरकार  

(स्त्रोत : देशभक्तों के प्रति )

                                                                                                           


Post a Comment

1 Comments

  1. मैंने अक्सर देखा हैं लोग प्राउट की इस सुन्दर विचार को लोगों तक पहुँचाने की जगह, बाबा को मिले कष्टों की बात करते हैं..... मैं हमेशा चाहूंगा बाबा के विचार तथा दर्शन लोगों तक पहुंचे ना की बदला लेने की भावना....

    ReplyDelete